देहरादून,  जनवरी। पूर्व शिक्षामंत्री व संघ के प्रचारक रहे तीरथ सिंह रावत को उत्तराखण्ड भारतीय जनता पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किए जाने की अब बस औपचारिकता ही शेष रह गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अगले कुछ दिनों में उनके नाम की विधिवत घोषणा की जा सकती है। पूर्व मंत्री तीरथ सिंह रावत की प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर ताजपोशी इसलिए भी अहम है कि उनके दावेदारी के चलते बीते दो सालों से छत्तीस रहे पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद खण्डूडी और पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक के बीच बढ़ी दूरियां उनकी दावेदारी से कम ही नहीं हुई है, बल्कि दोनों नेताओं ने तीरथ सिंह के नाम पर अपनी खुलकर स्वीकृति भी दी। वहीं भाजपा का दूसरा धड़ा जिसकी अगुवाई पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी कर रहे थे के अध्यक्ष पद के दावेदार के रूप में पूर्व मंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का नाम काफी तेजी से आगे बढ़ा, लेकिन निशंक और खण्डूडी की नजदीकियों के चलते कोश्यारी गुट के अध्यक्ष पद के दावेदार त्रिवेन्द्र रावत को फिलहाल मायूसी ही हाथ लगने की उम्मीद है, लेकिन तेजी से समीकरणों में बदलाव व दो पूर्व मुख्यमंत्रियों के बीच गठजोड़ के बाद तीरथ सिंह के नाम पर हाईकमान द्वारा अन्तिम मुहर लगाए जाने की पूरी सम्भावनाएं दिखाई दे रही हैं। इसके साथ यह भी चर्चाएं हैं कि नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट दिल्ली रवाना हो चुके हैं और हाईकमान द्वारा इस विषय में उनकी भी राय जानने की कोशिश की जाएगी इसके बाद ही प्रदेश अध्यक्ष का फैसला किया जा सकेगा।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी के लिए आम राय बनाने की कोशिश की जा रही है। केन्द्रीय नेताओं ने फार्मूला निकाला कि यदि पहाड़ के किसी नेता की ताजपोशी की जाती है इसके लिए तीरथ सिंह रावत पहली पसन्द बने हुए हैं और यदि मैदान से किसी नेता को कमान सौंपी जाएगी तो उसके लिए नरेश बंसल को उपयुक्त प्रत्याशी माना जा रहा है। ऐसे में जब प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों ने तीरथ सिंह रावत के नाम पर अपनी हामी भर दी है तो अब भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के रूप में तीरथ सिंह रावत की ताजपोशी लगभग तय मानी जा रही है। वहीं दूसरी ओर पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी अपने गुट के नेता के रूप में त्रिवेन्द्र सिंह रावत के नाम को लेकर मैदान में डटे हुए हैं। नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट दिल्ली रवाना हो गए हैं और माना जा रहा है कि हाईकमान द्वारा उनसे भी इस विषय में अन्तिम रूप से राय जानने की कोशिश की जाएगी। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष के नाम पर अन्तिम फैसला लिया जा सकेगा। भाजपा में प्रदेश अध्यक्ष को लेकर कई नेता मैदान में डटे हुए हैं। ऐसे में पार्टी की ओर से सर्वसम्मति बनाने की कोशिश की जा रही है। सूबे के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियांे की अलग-अलग राह के चलते नेता के चयन का काम काफी कठिन बना हुआ था। जहां एक ओर बीसी खण्डूड़ी तीरथ सिंह रावत के पक्ष में खड़े दिखाई दे रहे थे। वहीं दूसरी ओर पूर्व सीएम कोश्यारी भी त्रिवेन्द्र सिंह रावत के पक्ष में, इतना ही नहीं पूर्व सीएम डा. निशंक के समर्थक प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर डा. निशंक को बैठाने की मांग कर रहे थे। माना जा रहा था कि पहाड़ के किसी नेता को यदि इस कुर्सी पर बिठाया जाता है तो सर्वसम्मति से फैसला करते हुए सभी धड़ों की राय जानने की कोशिश की जाएगी। इसके साथ ही मैदान के किसी नेता को इस कुर्सी पर बिठाया जाता तो इसके लिए नरेश बंसल का नाम तेजी से आगे बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा था। प्रदेश भाजपा में पिछले काफी समय से प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर गहमागहमी का दौर जारी है, जिसको लेकर हाईकमान कई प्रकार के पफार्मूलों पर विचार मंथन में जुटी हुई है।

अब कुल मिलाकर देखा जाए तो समीकरणों में तेजी से बदलाव आ गया है। भाजपा के दो धुरंधर नेता बीसी खण्डूड़ी व डा. निशंक एक साथ खड़े होकर तीरथ सिंह रावत के पक्ष में आ गए हैं। ऐसे में अब हाईकमान को तीरथ सिंह रावत को प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठाने में कोई आपत्ति नहीं होगी। पार्टी में काफी पहले से चल रही उठापठक के चलते आलाकमान को इस विषय मंे माथापच्ची करने को बाध्य होना पड़ रहा था। वहीं प्रदेश भाजपा में भी इस विषय में काफी उठापठक का दौर जारी रहा। पार्टी के आधे दर्जन से अधिक नेता इस कुर्सी को लेकर ताल ठोक रहे थे। नेताओं के बीच के घमासान को देखते हुए केन्द्रीय नेतृत्व का बार-बार प्रयास रहा कि इस कुर्सी पर सर्वसम्मति से फैसला किया जाए। ऐसे में जब सूबे के दो पूर्व सीएम तीरथ सिंह रावत के पक्ष में खडे़ हो गए हैं तो अब हाईकमान को भी अधिक माथापच्ची करने की जरूरत नहीं पड़ेगी और तीरथ सिंह रावत की ताजपोशी लगभग तय माना जा रहा है। वैसे अध्यक्ष पद की दौड़ में भाजपा के वरिष्ठ नेता मोहन सिंह रावत गांववासी और प्रदेश उपाध्यक्ष लाखीराम जोशी अभी भी मैदान में डटे हुए हैं।

मेरा पता

तीरथ सिंह रावत

भाजपा राष्ट्रीय सचिव / पूर्व प्रदेश अध्यक्ष / पूर्व शिक्षा मंत्री

ग्राम एवं डाकघर - सीरों, पट्टी असवालस्यूं
पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखण्ड , 246155
भारत

  +91.94120 04626

  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

  contact